Nanotechnology क्या है और Nanorobots Technology का क्या उपयोग है?

दोस्तों आज हम इस पोस्ट में बात करेंगे Nanotechnology क्या है और Nano robots Technology का क्या उपयोग है? आज हम हर तरफ से टेक्नोलॉजी से घिरे हुवे हैं। आप सबने nano car का नाम तो सुना ही होगा ? नैनो नाम इसलिए पड़ा क्योंकि nano car बहुत छोटी होती है। ठीक उसी तरह यह नैनोटेक्नोलॉजी भी सूक्ष्म विज्ञान पर आधारित है। तो चलिए जानते हैं कि Nanotechnology क्या है और Nano robots Technology का क्या उपयोग है?

Contents in post show

नैनोटेक्नोलॉजी क्या है ? (what is Nanotechnology)

नैनोटेक्नोलॉजी नैनो स्केल (nano scale) पर आयोजित विज्ञान, इंजीनियरिंग प्रौद्योगिकी (Technology) है, जो लगभग 1 से 100 नैनोमीटर के बिच माना जाता है।
nano science और Nanotechnology बेहद छोटी चीजों का अध्ययन और अनुप्रयोग (application) है और इसका उपयोग अन्य सभी विज्ञान क्षेत्रों, जैसे कि रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, भौतिक विज्ञान, सामग्री विज्ञान और इंजीनियरिंग में किया जा सकता है।

नैनोटेक्नोलॉजी  क्या है ? (what is  Nanotechnology)

नैनोटेक्नोलॉजी (Nanotechnology) कि शुरुआत कैसे हुई ?

नैनो साइंस और नैनोटेक्नोलॉजी के पीछे के विचारों और अवधारणाओं (concepts) कि शुरुआत 29 दिसंबर,1959 को कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (Cal Tech) में एक अमेरिकी फिजिकल सोसाइटी कि बैठक में भौतिकविद् रिचर्ड फेनमैन (Physicist Richard Feynman) द्वारा There’s Plenty of Room at the Bottom नामक वार्ता से हुई।

अपनी बात में, फेनमैन ने एक प्रक्रिया का वर्णन किया जिसमें वैज्ञानिक व्यक्तिगत परमाणुओं और अणुओं को हेरफेर करने और नियंत्रित करने में सक्षम होंगे। एक दशक बाद, अल्ट्राप्रेशर मशीनिंग के अपने अन्वेषण में, प्रोफेसर नोरियो तानिगुची (Professor Norio Taniguchi) ने नैनोटेक्नोलॉजी (Nanotechnology) शब्द गढ़ा।

नैनोटेक्नोलॉजी (Nanotechnology) कि शुरुआत कैसे हुई ?

नैनोटेक्नोलॉजी कि मूलभूत अवधारणाएँ (Basic concepts of nanotechnology)

यह कल्पना करना कठिन है कि नैनो तकनीक कितनी गहरी है। एक नैनोमीटर एक मीटर का एक अरबवाँ, या एक मीटर का 10-9 है। यहाँ कुछ उदाहरण हैं:

  • यह चींटी की लंबाई से एक लाख गुना छोटा होते है।
  • एक इंच में 25,400,000 नैनोमीटर होते हैं
  • अखबार की एक शीट लगभग 100,000 नैनोमीटर मोटी होती है

नैनोसाइंस और नैनो टेक्नोलॉजी में व्यक्तिगत परमाणुओं और अणुओं को देखने और नियंत्रित करने की क्षमता शामिल है। पृथ्वी पर जो भोजन हम खाते हैं, जो कपड़े हम पहनते हैं, जिन घरों में हम रहते रहते हैं सब कुछ परमाणुओं से बना है।

लेकिन परमाणु जितनी छोटी चीज को नग्न आंखों से देखना असंभव है। वास्तव में, सूक्ष्मदर्शी के साथ भी इसे देखना असंभव है। नैनोस्कोपिक चीजों को देखने के लिए आवश्यक सूक्ष्मदर्शी का आविष्कार लगभग 30 साल पहले किया गया था।

नैनोटेक्नोलॉजी कि मूलभूत अवधारणाएँ (Basic concepts of nanotechnology)

नैनोटेक्नोलॉजी का उपयोग (Use of Nanotechnology)

नैनोटेक्नोलॉजी का उपयोग हमारे लिए लगभग हर क्षेत्र में लाभकारी है। नैनोटेक्नोलॉजी का विस्तार हर क्षेत्र में हो सकता है जैसे कि –

नैनोटेक्नोलॉजी का उपयोग (Use of Nanotechnology)

सैन्य सुरक्षा में

नैनोटेक्नोलॉजी की मदद से मातृभूमि की सुरक्षा के लिए कुछ ऐसे हथियार भी बनाये जा सकते हैं जो कि देखने में बहुत ही छोटे हों परन्तु उनकी मार में ज्यादा ताकत हो। सूक्ष्म रूप से ड्रोन और जासूसी कैमरे भी बनाये जा सकते हैं जो दुश्मन की सीमा में जा कर बिना पकड़ में आये हमे जानकारी दे सकें। वर्तमान में यह कार्य विकास की राह पर अग्रसर है।

 सैन्य सुरक्षा में

चिकित्सा में

चिकित्सा में नैनोटेक्नोलॉजी उपलब्ध चिकित्सा उपकरणों और उपचारों को व्यापक रूप से चिकित्सकों के लिए उपलब्ध करा रही है। नैनोमेडिसिन, रोग की रोकथाम और उपचार के लिए सटीक समाधान में नैनोटेक्नोलॉजी का उपयोग हो रहा है। नैनोबोट्स इसका जीता जगता उदाहरण हैं।

चिकित्सा में नैनोटेक्नोलॉजी का उपयोग

ऊर्जा और परिवहन में

नैनो तकनीक बेहतर उत्प्रेरक के माध्यम से कच्चे पेट्रोलियम पदार्थों से ईंधन उत्पादन की दक्षता में सुधार कर रही है। यह उच्च दक्षता के माध्यम से वाहनों और बिजली संयंत्रों में ईंधन की खपत को कम करने में सक्षम है। नैनोटेक्नोलॉजी को तेल और गैस निष्कर्षण में भी लागू किया जा रहा है, तेल खनन की पाइप लाइन में अच्छी तरह से तेल-पाइपलाइन-फ्रैक्चर का पता लगाने के लिए नैनोकणों का उपयोग किया जा रहा है।

ऊर्जा और परिवहन में

सुचना प्रौद्योगिकी में

कंप्यूटिंग और इलेक्ट्रॉनिक्स में नैनोटेक्नोलॉजी ने बड़ी प्रगति में योगदान दिया है, जिससे तेज, छोटे और अधिक पोर्टेबल सिस्टम बन रहे हैं जो बड़ी और बड़ी मात्रा में सूचना का प्रबंधन और भंडारण कर सकते हैं।

और कई अन्य प्रौद्योगिकी और उद्योग क्षेत्रों में भी नैनोटेक्नोलॉजी के लाभों और अनुप्रयोगों की तेजी से बढ़ोतरी हो रही है।

 सुचना प्रौद्योगिकी में

नैनोटेक्नोलॉजी में नैनो-रोबॉट्स या नैनोबॉट्स क्या हैं? (What are Nano-robots or Nanobots in Nanotechnology)

यह नैनोटेक्नोलॉजी का सबसे अहम् हिस्सा है इसके बिना यह टेक्नोलॉजी असहाय है। नैनोबॉट्स तकनीक की मदद से उपर्युक्त सभी कार्यों का होना संभव है।

नैनोटेक्नोलॉजी ने सूक्ष्म रूप से ऐसे रोबोट्स बनाये हैं जो देखने में बहुत ही छोटे होते हैं। इन्हे नैनोरोबॉट्स या नैनोबॉट्स कहा जाता है। यह लगभग 1 नैनोमीटर यानि के 0.0000000010 मीटर बड़े होते हैं। ये वर्तमान में अनुसंधान और विकास के चरण में हैं, लेकिन इनसे परमाणु, आणविक और सेलुलर स्तर पर विशिष्ट कार्य करने उम्मीद की जा सकती है। इनसे विशेष रूप से चिकित्सा विज्ञान में कई सफलताओं को लाने में मदद मिलती है।

नैनोरोबॉट को नैनोमशीन, नैनोबॉट्स, नैनोमाइट्स, नैनाइट्स या नैनोइड्स के रूप में भी जाना जाता है।

नैनोटेक्नोलॉजी में नैनोरोबॉट्स या नैनोबॉट्स क्या हैं? (What are Nano-robots or Nanobots in Nanotechnology)

नैनोबॉट्स का अविष्कार कैसे हुवा ? (How did nanobots get invented?)

नैनोबॉट्स का अविष्कार DNA Origami प्रक्रिया के अंतर्गत किया गया है। इसका विकास अमेरिका में स्थित Arizona State University के वैज्ञानिक शोधकर्ताओं ने किया। वर्तमान समय में इनका उपयोग चिकित्सा और सैन्य विभाग में किया जा रहा है। आने वाले समय में बहुत से ऐसे कठिन कार्य होंगे जिन्हे नैनोबॉट्स की मदद से आसानी से किया जा सकेगा।

नैनोबॉट्स का अविष्कार कैसे हुवा ? (How did nanobots get invented?)

नैनोबॉट्स कि प्रवृत्ति (habits of nanobots)

ये वो रोबोट हैं जिन्हें नैनो तकनीक का उपयोग करके बनाया गया है जो प्रोग्राम किए गए कार्यों और स्वयं को पुनः निर्मित (self replicating) करने में सक्षम हैं।

नैनोबॉट्स कि प्रवृत्ति (habits of nanobots)

नैनोबॉट्स का विकास (Development of nanobots)

इनका विकास आज कई रूप में हो रहा है और विभिन्न क्षेतों में यह विक्सित हो रहे हैं जैसे कि –

नैनोरॉकेट

शोधकर्ताओं के कई समूहों ने हाल ही में जैविक अणुओं के साथ नैनोकणों के संयोजन से एक रॉकेट का निर्माण किया है। इसका उपयोग किसी भी वातावरण में किया जा सकता है; उदाहरण के लिए, शरीर के एक लक्षित क्षेत्र में ड्रग्स पहुंचाने के लिए।

नैनोरॉकेट

100 बल प्रति यूनिट वजन से लैस चींटी की तरह दिखने वाला नैनोइंजन

 “कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने एक छोटे इंजन को विकसित किया है जो किसी भी मोटर तुलना में लगभग 100 गुना अधिक प्रति यूनिट बल के लिए सक्षम है। शोधकर्ताओं ने कहा कि नए नैनोइंजन या नैनोरोबॉट्स को बीमारी से लड़ने के लिए जीवित कोशिकाओं में प्रवेश करने के लिए काफी छोटा कर सकते हैंकैवेन्डिश प्रयोगशाला (Cavendish Laboratory) के प्रोफेसर जेरेमी बॉमबर्ग (Jeremy Baumberg), जिन्होंने अनुसंधान का नेतृत्व किया, ने उपकरणों का नामकरण किया है actuating nanotransducers’ (ANTs), वास्तविक चींटियों की तरह, यह नैनोइंजन भी अपने से ज्यादा भार के लिए ताकत का निर्माण करता है।

100 बल प्रति यूनिट वजन से लैस चींटी की तरह दिखने वाला नैनोइंजन

बैक्टीरिया चलित रोबोट

इंजीनियरों ने सूक्ष्म जीवाणु-चालित रोबोटों को वातावरण में बाधाओं का पता लगाने के लिए बनाया है। यह नैनोरोबोट्स वातावरण में चारों ओर घूम सकते हैं। कुछ कार्य जैसे कि दवा पहुंचाना, स्टेम सेल में हेरफेर करना या माइक्रोस्ट्रक्चर का निर्माण ये स्वयं कर सकते हैं।

बैक्टीरिया चलित रोबोट

नैनोस्विमर्स

ETH Zurich और Technion शोधकर्ताओं ने एक लचीला “नैनोस्वीमरpolypyrrole nanowire विकसित किया है जो लगभग 15 माइक्रोमीटर (0.00001500000 मीटर) लंबा और 200 नैनोमीटर मोटा है जो जैविक वातावरण के माध्यम से लगभग 15 माइक्रोमीटर प्रति सेकंड की गति से आगे बढ़ सकता है। इसे चुंबकीय रूप से नियंत्रित करते हुवे दवाओं को वितरित करने और रक्त कोशिकाओं के माध्यम से तैरने के लिए कार्यात्मक बनाया जा सकता है।

ऐसे कई तरह के नैनोबॉट्स विकसित किये जा रहे हैं जो की भविष्य में हमारे लिए अत्यंत लाभकारी साबित होंगे।

नैनोस्विमर्स

नैनोरोबॉट्स कैसे काम करते हैं ? (How does Nanobots work?)

नैनोरोबॉट्स आकार में सूक्ष्म होते हैं। उनमे सन्देश भेजने और स्वीकार करने के लिए बहुत ही सूक्ष्म सेंसर्स लगे होते हैं जो चुंबकीय तरंगो के आधार पर कार्य करते हैं निर्देशित कार्यों को संपन्न करने के लिए वे बाहरी या आंतरिक ऊर्जा का उपयोग करते हैं। ऊर्जा चुंबकीय क्षेत्र, विद्युत क्षेत्र, रासायनिक प्रतिक्रियाओं, आदि के रूप में हो सकती है।
इनमें से किसी एक ऊर्जा की मदद से इन्हे अपने गंतव्य तक पहुंचाने के लिए इनको मैन्युअल रूप से नियंत्रित करना पड़ता है। इनकी सबसे बड़ी खासियत यह होती है कि ये मानव शरीर में परजीवी की तरह होते हुवे भी किसी पीड़ा का अहसास नहीं होने देते।

नैनोरोबॉट्स कैसे काम करते हैं ? (How does Nanobots work?)

नैनोबॉट्स का उपयोग कहाँ-कहाँ किया जा सकता है ? (Where can Nanobots be used)

वर्तमान समय में विभिन्न विभागों इनके उपयोग बहुत ही लाभकारी हैं जैसे कि –

नैनोबॉट्स का उपयोग कहाँ-कहाँ किया जा सकता है ? (Where can Nanobots be used)

चिकित्सा विभाग में नैनोरोबॉट्स का उपयोग (Use of Nanobots in Medical department)

चिकित्सा विभाग में विभिन्न कार्यों के लिए इनका उपयोग क्रांति ला सकता है।

चिकित्सा विभाग में नैनोरोबॉट्स का उपयोग (Use of Nanobots in Medical department)

सर्जरी में नैनोरोबोटिक्स (Nano-robotics in Surgery)

सर्जिकल नैनोरोबोट्स को संवहनी प्रणालियों और अन्य गुहाओं (cavities) के माध्यम से मानव शरीर में पेश किया जाता है। सर्जिकल नैनोरोबोट मानव शरीर के अंदर अर्ध-स्वायत्त (semi autonomous) सर्जन के रूप में कार्य करते हैं और मानव सर्जन द्वारा प्रोग्राम या निर्देशित होते हैं। यह प्रोग्राम किया गया सर्जिकल नैनोरोबोट रोगज़नक़ों (pathogens) की खोज करने और घावों के निदान और सुधार जैसे विभिन्न कार्यों को निष्पादित करता है, जबकि coded अल्ट्रासाउंड संकेतों के माध्यम से सर्जन के साथ संपर्क बनाये रखता है। आजकल, सेलुलर के पहले के रूप नैनो-सर्जरी की तलाश की जा रही है।

 सर्जरी में नैनोरोबोटिक्स (Nano-robotics in Surgery)


निदान और परीक्षण ( Diagnosis and Testing )

मेडिकल नैनोबॉट्स का उपयोग रक्त प्रवाह में सूक्ष्मजीवों और कोशिकाओं के निदान, परीक्षण और निगरानी के उद्देश्य से किया जाता है। ये नैनोरोबॉट्स रिकॉर्ड को नोट करने में सक्षम हैं, और कुछ महत्वपूर्ण संकेतों जैसे कि तापमान, दबाव और प्रतिरक्षा प्रणाली के मानव शरीर के विभिन्न हिस्सों के मापदंडों कि रिपोर्ट लगातार देते रहते हैं।

निदान और परीक्षण ( Diagnosis and Testing )


जीन थेरेपी (Gene Therapy)

Cell में डीएनए और प्रोटीन के आणविक संरचनाओं से संबंधित उपचार में भी नैनोरोबोट्स लागू होते हैं। कोशिका की मरम्मत की तुलना में chromosomal replacement therapy बहुत कुशल है। इसके अंतर्गत एक assembled repaired vessel को मानव शरीर में एक सेल के नाभिक (nucleus) के अंदर आनुवंशिकी (genetics) के रख-रखाव के लिए किया भेजा जाता है। नैनोमशीन DNA Strand को खींचता है इस बीच नैनोरोबॉट्स DNA श्रृंखला से प्रोटीन को अलग करते हैं और प्रोटीन फिर से एक नई DNA श्रृंखला में बदल जाता है, एक बार फिर से उनका नवीनीकरण हो जाता है और रोगी में सुधार दिखाई देता है।

जीन थेरेपी (Gene Therapy)

कैंसर का पता लगाने और उसका उपचार ( Cancer detection and treatment)

चिकित्सा तकनीकों और चिकित्सा उपकरणों का उपयोग कैंसर के सफल उपचार के लिए किया जाता है। Embedded रासायनिक बायोसेंसर वाले नैनोरोबोट्स का उपयोग एक मरीज के शरीर के अंदर कैंसर के शुरुआती चरणों में ट्यूमर कोशिकाओं का पता लगाने के लिए किया जाता है। नैनो-सेंसर का उपयोग ई-कैडरिन संकेतों की तीव्रता का पता लगाने के लिए भी किया जाता है।

कैंसर का पता लगाने और उसका उपचार ( Cancer detection and treatment)

नैनोडेंटिस्ट्री (Nanodentistry)

नैनोडेंटिस्ट्री नैनोरोबॉट्स के उपयोगों में से एक है क्योंकि नैनोरोबोट्स दंत चिकित्सा में शामिल विभिन्न प्रक्रियाओं में मदद करते हैं। नैनोरोबोट्स दांतों को निष्क्रिय करने में सहायक होते हैं, दांतों के अनियमित सेट को सीधा करना और दांतों के स्थायित्व में सुधार, प्रमुख दांतों की मरम्मत और दांतों की उपस्थिति में सुधार आदि।

नैनोडेंटिस्ट्री (Nanodentistry)

प्रसंस्करण के लिए सहायक उपकरण (Ancillary devices)

नैनोरोबोट्स को प्रभावित अंगों में विभिन्न रासायनिक प्रतिक्रियाओं के प्रसंस्करण के लिए सहायक उपकरणों के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। मधुमेह के रोगियों में ग्लूकोज के स्तर की निगरानी और नियंत्रण के लिए भी ये रोबोट उपयोगी हैं।

Also Read: VPN kya hai ? kaise kam karta hai aur ise kaise use karte hain in hindi

Also Read: Interview kaise dena chahiye ? Best Interview Tips in Hindi

Also Read: CCC क्या है ?, CCC कैसे करे?, CCC से क्या फायदे है?, और CCC का सिलेबस क्या है?

Also Read: SAINIK SCHOOL ME ADMISSION KAISE LE?

प्रसंस्करण के लिए सहायक उपकरण (Ancillary devices)

सैन्य विभाग में नैनोरोबॉट्स का उपयोग (Use of Nanorobots in Military department)

सैन्य विभाग में नैनोरोबॉट्स का प्रयोग एक उत्तम भविष्य का संकेत है। इसका उपयोग सैन्य विभाग में कई जगहों पर किया जा सकता है।

सैन्य विभाग में नैनोरोबॉट्स का उपयोग  (Use of Nanorobots in Military department)

नैनोमटेरियल (Nanomaterial)

नैनोमटेरियल को परमाणु स्तर पर डिजाइन किया जा सकता है, जो उनके गुणों पर अधिक नियंत्रण दे सकता है, और उन्हें उनके इच्छित उद्देश्य के लिए बेहतर बना सकता है। सिकुड़ने वाले अणुओं का उपयोग करने वाली कृत्रिम मांसपेशियां एक्सोस्केलेटन सूट (exoskeleton suit) जैसे अनुप्रयोगों में आंदोलन ला सकती हैं। नैनोमटेरियल हल्का कवच और बेहद मजबूत सामग्री बना सकती है।

नैनोमटेरियल (Nanomaterial)

नैनोबोट्स हथियार (Nano weapons)

कई देशों में रक्षा विभागों ने शक्तिशाली बम बनाने की कुशलता दिखाई है। नैनोटेक्नोलॉजी का उपयोग करके अल्ट्रा-हाई बर्न रेट रासायनिक विस्फोटकों को अधिक शक्तिशाली बना सकते हैं। Nanothermite या “सुपर-थर्माइट” इस तरह के “Meta stable Inter molecular Compite” (MIC) का एक उदाहरण है। Nano weapons ऐसी सैन्य तकनीक है जो आधुनिक युद्ध के मैदान में nanotechnology की शक्ति को उजागर कर सकती है।
जिस तरह नैनोरोबोट्स को मानव शरीर के भीतर लक्षित स्थानों पर दवाइयाँ पहुँचाने के लिए डिज़ाइन किया जा सकता है, उसी तरह से बायो टेरोरिस्ट के शरीर के सबसे कमजोर या वांछित लक्ष्य क्षेत्रों में अत्यधिक विषाक्त पदार्थों को छोड़ने के लिए इसी तरह की तकनीकों का उपयोग कर सकते हैं।

नैनोबोट्स हथियार (Nano weapons)

सुरक्षा कवच (Body Armor)

हथियार में सुधार के साथ-साथ, शरीर के सुरक्षा कवच में समान सुधार आना अतिआवश्यक हैं। नैनोरोबोट्स को असाधारण रूप से मजबूत कवच बनाने के लिए डिज़ाइन किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, Kryron Terminator ballistic body और वाहन कवच, कार्बन नैनोट्यूब के साथ संयुक्त एक एल्यूमीनियम मिश्र धातु से बनाया गया है। बैलिस्टिक कवच बहु-सक्षम, टिकाऊ, हल्की है।
नैनोफाइबर आधारित सूट गोलियों के खिलाफ बेहतर सुरक्षा प्रदान करते हैं। “स्मार्ट-मटेरियल” प्रकाश, तापमान, दबाव या तनाव में परिवर्तन के अनुकूल हो सकता है।

सुरक्षा कवच (Body Armor)

सूचना प्रौद्योगिकी विभाग में नैनोबॉट्स का उपयोग (Use of Nanobots in IT department)

कंप्यूटर और इलेक्ट्रॉनिक्स को नैनोइलेक्ट्रॉनिक बनाया जा सकता है जिनका आकर छोटा और हल्का हो सकता है। आज की तुलना में बहुत कम बिजली की आवश्यकता हो सकती है। ये सुधार, एक बार असंभव, अनुप्रयोगों के लिए पूरी तरह से नए हो सकते हैं। अपने सूक्ष्म फॉर्म-फैक्टर के कारण किसी भी सर्वर से डेटा-माइनिंग में इनसे मदद मिल सकती है।

किसी भी एल्गोरिथ्म के लिए आज एक बड़े सुपर कंप्यूटर की आवश्यकता होती है परन्तु नैनोबॉट्स के इस्तेमाल से सुपर कंप्यूटर का आकर भी सूक्ष्म करना संभव हो सकेगा। यदि नैनोबॉट्स को वर्चुअल रियलिटी के साथ जोड़ा जाये तो यह बेहद उच्च बैंडविड्थ टेलीस्प्रेस को सक्षम करेगा।

सूचना प्रौद्योगिकी विभाग में नैनोबॉट्स का उपयोग  (Use of Nanobots in IT department)

कृषि विभाग में नैनोरोबॉट्स का योगदान (Use of Nanobots in agriculture department)

कृषि विभाग में नैनोरोबॉट्स का योगदान निम्नलिखित क्षेत्रों में हो सकता है –

कृषि विभाग में नैनोरोबॉट्स का योगदान  (Use of Nanobots in agriculture department)

पौधों के रोगों का पता लगाना (Detection of plant diseases)

वर्तमान युग में पौधे की बीमारी का पता लगाने की आवश्यकता है ताकि अनाज की मात्रा को संभावित प्रकोप से बचाया जा सके। नैनोरोबॉट्स ने इस कार्य को आसान कर दिया यह तकनीक कम समय लेती है और कुछ घंटों के भीतर परिणाम दे सकती है, सरल और सटीक हैं ताकि एक साधारण किसान भी पोर्टेबल सिस्टम का उपयोग कर सके।
यदि एक स्वायत्त (autonomous) नैनोरोबॉट सेंसर वास्तविक समय में (in real time) निगरानी के लिए एक जीपीएस सिस्टम में जुड़ा हुआ हो, तो मिट्टी की स्थिति और फसल की निगरानी के लिए पूरे क्षेत्र में वितरित किया जा सकता है, यह बहुत लाभदायक साबित हो सकते हैं। इस नैनोरोबॉट सेंसर में बायोटेक्नोलॉजी और नैनोटेक्नोलॉजी निर्मित उपकरण लगे होते हैं, जिससे पर्यावरण में बदलाव और आने वाली बीमारियों के लिए पहले से सुचना मिल सकती है।

पौधों के रोगों का पता लगाना  (Detection of plant diseases)

पौधों के रोग पर नियंत्रण (Plant Disease Control)

कुछ नैनोरोबॉट्स पौधों की बीमारियों को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। जैसे कि कार्बन, सिल्वर, सिलिका और एल्युमिना-सिलिकेट्स के नैनोफॉर्म्स (Nanoforms)।

पौधों के रोग पर नियंत्रण (Plant Disease Control)

परिवहन विभाग में नैनोरोबॉट्स का प्रयोग कैसे किया जा सकता है? (How can nano robots be used in the transport department?)

नैनोरोबॉट्स की मदद से बहुउद्देश्यीय सामग्री बनायीं जा सकती है जो हल्के, सुरक्षित, अधिक कुशल वाहनों, विमानों, अंतरिक्ष यान और जहाजों के निर्माण और रखरखाव में योगदान मिल सकता है। हालांकि नैनोबॉट्स परिवहन के बुनियादी ढांचे को बेहतर बनाने के लिए विभिन्न साधन भी प्रदान कर सकते हैं।

जैसा कि ऊपर चर्चा की गई है, मोटर वाहन उत्पादों में नैनोबॉट्स सामग्री शामिल हैं; उच्च शक्ति रिचार्जेबल बैटरी, वाहनों में कम रोलिंग-प्रतिरोध टायर; उच्च दक्षता और कम लागत वाले सेंसर सामग्रियों में नवीन क्षमताओं को शामिल किया जा सकता है, जैसे कि स्वयं मरम्मत करने की शक्ति या संचारित करने की क्षमता।

नैनोरोबोट सेंसर पुलों, सुरंगों, रेल, पार्किंग संरचनाओं और फुटपाथों कि निरंतर निगरानी प्रदान कर सकते हैं। नैनोबॉट्स के जरिये टकराव और भीड़ से बचने के लिए यात्रा मार्गों को समायोजित करने और ड्राइवरों के इंटरफेस में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

परिवहन विभाग में नैनोरोबॉट्स का प्रयोग कैसे किया जा सकता है? (How can nano robots be used in the transport department?)

नैनोरोबॉट्स टेक्नोलॉजी के फायदे और नुकसान (Advantages and disadvantages of nanorobots technology)

जिस तरह हर सिक्के के दो पहलू होते हियँ ठीक उसी प्रकार नैनोरोबॉट्स टेक्नोलॉजी के भी फायदे और नुकसान हैं

Also Read: Dark Web kya hai aur kaise kam karta hai?

Also Read: Interview kaise dena chahiye ? Best Interview Tips in Hindi

Also Read: CCC क्या है ?, CCC कैसे करे?, CCC से क्या फायदे है?, और CCC का सिलेबस क्या है?

Also Read: SAINIK SCHOOL ME ADMISSION KAISE LE?

नैनोरोबॉट्स टेक्नोलॉजी के फायदे और नुकसान (Advantages and disadvantages of nanorobots technology)

नैनोरोबॉट्स टेक्नोलॉजी के फायदे (Advantages of nanorobots technology)

  • वर्तमान में कैंसर के लिए कोई स्थायी या बीमारी को हमेशा के लिए ठीक करने की दवा उपलब्ध नही है। नैनोरोबॉट्स से मरीजों का इलाज संभव हो सकेगा।

  • बहुत से रोगो का तेजी से उन्मूलन हो सकता है।

  • self replication प्रक्रिया के जरिये नैनोबॉट्स शरीर के घावों को भरने के लिए खुद की प्रतियां भी तैयार कर सकते हैं और घाव भर सकते हैं।

  • इनका सबसे बड़ा लाभ यह है कि यह कई वर्षो तक बिना किसी रोकथाम के कार्यरत रह सकते हैं।

  • पर्यावरण में होने वाली हलचल और आने वाली मुसीबतों का पता पहले ही लग सकता है।

  • सूक्ष्म होने के एरान इन्हे देख पाना संभव नहीं है तो यह सैन्य शक्ति को बढ़ावा दे सकते हैं।

नैनोरोबॉट्स टेक्नोलॉजी के फायदे  (Advantages of nanorobots technology)

नैनोरोबॉट्स टेक्नोलॉजी के नुकसान (Disadvantages of nanorobots technology)

  • नैनोरोबॉट्स कि प्रारंभिक डिजाइन की लागत बहुत अधिक है।
  • रखरखाव बहुत मुश्किल है
  • नैनोरोबॉट्स का डिज़ाइन बहुत जटिल है।
  • नैनोरोबॉट्स के आ जाने से बेरोजगारी की समस्या आ सकती है क्योकि जहा मनुष्यों द्वारा कार्य संभव था अब नैनोरोबॉट्स द्वारा किया जायेगा।
  • आप यह भी पाएंगे कि ऊर्जा के वैकल्पिक स्रोतों को विकसित करने की संभावना के कारण तेल और हीरे के मूल्य में गिरावट आ सकती है। इसका मतलब यह है कि लोग अब आणविक स्तर पर उत्पाद विकसित कर सकते हैं, इसलिए हीरे भी अपना मूल्य खो देंगे।
  • परमाणु हथियार अब अधिक सुलभ हो सकते हैं और अधिक शक्तिशाली और अधिक विनाशकारी बन सकते हैं।
  • चूँकि इन नैनोबोट्स के सूक्ष्म होने की वजह से इन्हे साँस के द्वारा निगल लिए जाने की सम्भावना भी बढ़ जाएगी जिससे किसी भी व्यक्ति को हानि हो सकती है।
नैनोरोबॉट्स टेक्नोलॉजी के नुकसान  (Disadvantages of nanorobots technology)

निष्कर्ष (conclusion)

विशेष रूप से जीन थेरेपी, दंत चिकित्सा और कैंसर के लिए औषधीय प्रयोगों में नैनोटेक्नॉलॉजी ने दिखाया कि कैसे चिकित्सा समस्याओं में सबसे प्रभावी रूप से नैनोरोबोट के निर्माण और नियोजन में मदद मिल सकती है। दवा के लिए लगाए गए नैनोरोबोट्स रोग को मिटाने में सक्षम हैं (झुर्रियाँ, हड्डी द्रव्यमान की हानि और उत्तेजित स्थिति सेलुलर स्तर पर सभी उपचार योग्य हैं); नैनोरोबोट्स औद्योगिक अनुप्रयोगों के लिए भी उम्मीदवार हैं। आणविक नैनो-प्रौद्योगिकी का आगमन फिर से भविष्य के चिकित्सा उपचारों की प्रभावशीलता, मानव गति का विस्तार करेगा, एक ही समय में उनके जोखिम, लागत और परेशानियों को काफी कम कर देगा। यह विज्ञान अब एक कल्पना की तरह लग सकता है, लेकिन भविष्य में नैनोरोबोटिक्स में स्वास्थ्य सेवा, सैन्य सेवा, परिवहन तथा कृषि में क्रांति लाने की प्रबल संभावना है।

निष्कर्ष (conclusion)

संक्षेप में

आज हमने Nanotechnology क्या है और Nano robots Technology का क्या उपयोग है? नैनो टेक्नोलॉजी कि मूलभूत अवधारणाएँ, नैनोटेक्नोलॉजी का उपयोग और nano-robots ya nanobots kya hain?, नैनोबॉट्स के प्रकार और उनका विकास, नैनोरोबॉट्स कैसे काम करते हैं तथा इनका क्या उपयोग है, किन क्षेत्रों में इनका किस तरह इस्तेमाल किया जा सकता है, इनके फायदे और नुकसान क्या हैं ? इत्यादि जानकारियां हासिल की।

दोस्तों, मैं आशा करता हूँ कि आपको यह Nanotechnology kya hai? nano robots kaise kam karte hain inka kya upyog hai? post पसंद आया होगा। अगर आपके पास इस post के सम्बन्ध में कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे comment करके जरूर बतायें और इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ Social Media पर जरूर शेयर करें |

2 thoughts on “Nanotechnology क्या है और Nano robots Technology का क्या उपयोग है?

    1. I am glad with you positive response sir. please support us, share and suggest if you have anything regarding our website and of course do not forget to visit again.

      thanks

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *